अकेला भाई जी सके लंबी उम्र, इसलिए बहनों ने गिफ़्ट कर दिया अपना लिवर, पढ़कर आंखे हो जायंगी नम

Advertisement

रक्षा बंधन के मौके पर जहाँ भाई अपनी बहनों की रक्षा करने का वचन देता हैं वही इस बार दो बहनों ने अपने एक भाई की जान बचा ली. रक्षा बंधन के मौके पर 2 बहनों ने अपना आधा आधा लीवर दान करके अपने 14 साल के भाई की जान बचा ली.

Advertisement

रिपोर्ट के मुताबिक ये ममला उत्तर प्रदेश के बदायु का है यहाँ पर रहने वाले अक्षत गुप्ता बीते 1 महीने से लीवर परेशानी से जूझ रहे थे. एक महीने पहले लीवर फेल होने से उनको ये समस्या हो गयी थी अक्षत का केस और ज़्यादा पेंचीदा था क्योंकि उसका वज़न 92 किलोग्राम था.

रिपोर्ट के मुताबिक मेदांता अस्पताल के Paediatric Liver Diseases and Transplantation की डायरेक्टर डॉ.नीलम मोहन ने बताया की अक्षत गुप्ता का लीवर लगना जरूरी था तभी उनकी जान बाख सकती थी. तो उनकी दो बहनों ने लीवर दान करने का फैसला लिया. दोनों बहनों ने अपना आधा आधा  लीवर दान करने का फैसला लिया.

Advertisement

एक साथ करने पड़ी तीन सर्जरी :

अस्पतान के  Liver Transplant Institute के चेयरमैन और इस केस के चीफ़ सर्जन, Dr.A.S.Soin बताते हैं की एक साथ तीन बच्चो की सर्जरी कराना माँ -बाप के लिए काफी कठिन वक्त था और डॉक्टर्स के लिए तीन सर्जरी करना कोई मजाक काम नही था. इसके लिए काफी बड़ी टीम चाहिए होती है.

रिपोर्ट के अनुसार डॉक्टर्स को इस सर्जरी करने में करीब 15 घंटे लगे और उसके बाद तीनो को ICU में भर्ती कराया गया . अभी तीनों जल्दी से बेहतर हो रहे हैं. डॉक्टर्स ने ये भी बताया कि भारत की पहली Paediatric Dual Lobe Liver सर्जरी थी.

Advertisement