उत्तराखंड : 2014 में देश की रक्षा करते हुए शहीद हुआ था बड़ा भाई, आज सेना में अफसर बना छोटा भाई.

Advertisement

देश सेवा करने का जज्बा हर किसी को होता है ऐसा ही जज्बा था निमित आर्य के दिल में उन्होंने जी तोड़ मेहनत करके अफसर के पद पर नौकरी पा ली, लेकिन किस्मत में कुछ और ही लिखा था.सेना का हिस्सा तो बन गए, लेकिन एक ट्रेनिंग के दौरान वो शहीद हो गए जहाँ एक तरफ पूरा परिवार  शौक में डूबा हुआ था वही छोटे भाई आस्तिक के मन में कुछ और ही चल रहा था। वो भाई के सपने को पूरा करना चाहते थे.

Advertisement

आस्तिक ने मन ही मन ठान लिया था की वो सेना में शामिल होकर अपने बड़े भाई के इस सपने को पूरा करेंगे.सके लिए आस्तिक ने खूब मेहनत की और शनिवार को भारतीय सैन्य अकादमी में हुई पासिंग आउट परेड में अंतिम पग पार कर बतौर अफसर सेना का हिस्सा बन गए।

सेना में शामिल होने के बाद आज से आस्तिक लेफ्टिनेंट आस्तिक आर्या के रूप में पहचाने जाएंगे। आस्तिक  के मन में देश सेवा का जबाब देखकर उनको ट्रेन करने वाले भी हैरान रह गए थे.

Advertisement

हरियाणा के यमुनानगर के रहने वाले आस्तिक आर्य के बड़े भाई निमित आर्या भी सेना में शामिल हुए थे लेकिन ट्रेनिग के दौरान ही वो शहीद हो गये थे जिसके बाद परिवार को बड़ा झटका मिला था, आस्तिक सदमे में थे, लेकिन उन्होंने खुद को संभालते हुए अपने भाई की सीख को याद रखा और उनके बताये रास्ते पर चलते हुए अकादमी तक पहुंचे। शनिवार को हुई पीपिंग व ओथ सेरेमनी के बाद सेना में शामिल हो गये थे.

Advertisement