100 समोसे, 80 लिट्टी, 10 प्लेट चावल, 40 रोटी अकेले खाता है ये लड़का, क्वारंटाइन सेंटर का निकला दिया था दिवाला

Advertisement

आपने देखा होगा नार्मल इन्सान 4, 5 रोटी ही खा पाता है और उसका पेट भर जाता है क्या कभी आपने सोचा है की कोई आदमी 40 रोटी और 10 प्लेट चावल और 80 लिट्टी खा सकता है? नही ना लेकिन आज हम आपको ऐसे इन्सना से मिलवाने जा रहे हैं जिसने ये कारनामा कर दिया है.

Advertisement

इस आदमी के सामने क्वारंटाइन सेंटर के कर्मचारी हाथ जोडकर खड़े हो गए थे. क्योंकी जहाँ दस आदमी इतना खाना खाते थे वही ये अकेला खा जाता था.

आज हम बात कर रहे हैं अनूप ओझा की इनकी उम्र 21 साल है और ये इतना खाना खाते हैं उतना कोई पहलवान भी नही खाता.एक युवा आप्रवासी था जो मंझवारी बेसिक स्टेट स्कूल में एक संगरोध केंद्र में रहताथा

Advertisement

अनूप सिमरी क्लस्टर में खड़हट गाँव के रहने वाले गोपाल उजा के पुत्र हैं, लॉकडाउन लगने के बाद वो अपने घर वापस गए थे सिमरी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में परीक्षण के बाद केंद्र में 14 दिनों के लिए अलग हो गए। केंद्र में 87 प्रवासी रहते थे.

मझवारी पंचायत के अध्यक्ष प्रमोद कुमार साह ने कहा कि यहां अनूप के लिए विशेष व्यवस्था की जाती है। अनूप अकेले ही 30 से 35 रोटियां खाते थे. चावल की कोई समस्या नहीं थी. जो लोग रोटियां सेंकते थे, उन्हें इससे छुटकारा मिलता था. उन्होंने कहा कि तीन या चार दिन पहले, अनूप ने केंद्र में एक उपद्रव किया था, और उस दिन उन्होंने अपने दम पर 83 लिट्टी खाए।

खराटांड़ पंचायत के प्रमुख विजय कुमार ओझा कहते हैं कि अनूप भी कई बार गाँव पर दांव लगा रहा था, क्योंकि उसने हर बार लगभग 100 समोसे खाए थे।

Advertisement