Press "Enter" to skip to content

दिल्ली के इस अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 20 मरीजों की मौत, सैकड़ों मरीजों की सांसें अटकीं

देश के अस्पतालों में ऑक्सीजन की किल्लत मची हुई है, अब यही हाल देश की राजधानी दिल्ली में हो गया है, मरीजों को ऑक्सीजन की कमी के कारण दिल्ली के किसी भी हॉस्पिटल में जगह नहीं मिल रहा है, जिसकी वजह से पुरे देश में डॉ का महौल बना हुआ है

Advertisement

ऑक्सीजन की कमी से 20 की मौत 200 से ज्यादा की साँस अटकी 

राजधानी दिल्ली के जयपुर गोल्डन हॉस्पिटल में शुक्रवार रात 20 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई। हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी अब भी है और 200 से ज्यादा मरीजों की सांसों पर संकट अब भी बरकरार है।

Advertisement

शाम 5 बजे यहां ऑक्सीजन सप्लाई आनी थी, मगर रात 12 बजे आधी ही ऑक्सीजन मिली। हॉस्पिटल में अभी केवल आधे घंटे की ऑक्सीजन बची है। हॉस्पिटल के चिकित्सा अधीक्षक के अनुसार मरने वाले सभी 20 मरीज ऑक्सीजन पर ही निर्भर थे, ऑक्सीजन न होने से हमें फ्लो कम करना पड़ा। मैं ये नहीं कह रहा कि ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई हैं, मगर एक बड़ा करना ये भी हो सकता है।

बत्रा अस्पताल की हालत खराब 

शनिवार को बत्रा हॉस्पिटल में भी देखने को मिला, स्टॉक खत्म होने से मरीजों की सांस पर संकट बन गया था, मगर हॉस्पिटल प्रशासन की ओर से की गई SOS कॉल के बाद ऑक्सीजन समाप्त होने से ठीक पहले ही यहां पर 500 लीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति कर दी गई। बत्रा हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डाॅ.एस.सी.एल. गुप्ता के अनुसार दिल्ली सरकार ने हमें ऑक्सीजन टैंकर मुहैया कराया है।

12 घंटे जोड़े हाथ तब मिली 500 लीटर ऑक्सीजन

हमारे पास हमारे सभी रोगियों के लिए एक से डेढ़ घंटे की ऑक्सीजन बची हुई है। हमें एक दिन में 8,000 लीटर ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। हमें 12 घंटे हाथ जोड़ने के बाद केवल 500 लीटर ऑक्सीजन ही मिली है, अगला 500 लीटर कब मिलेगा इसके बारे में कुछ भी पता नहीं

मरीजों को भर्ती करना किया बंद 

राजधानी दिल्ली के सरोज सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल के कोविड प्रभारी ने शनिवार को जानकारी दी कि हम ऑक्सीजन की कमी की वजह से नए मरीजों को एडमिट करना बंद कर रहे हैं। हम अपने हॉस्पिटल से भी मरीजों को छुट्टी दे रहे हैं।

Input : upvartanews

Advertisement
More from NewsMore posts in News »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *