Press "Enter" to skip to content

सफाई से लेकर अखबार बांटने तक का किया काम, आज ऑस्ट्रेलिया में बना ली 10 Cr की कंपनी

यूपी के अलीगढ़ के रहने वाले एक शख्स ने यह साबित कर दिया है कि अगर हौसले बुलंद हो और जेब में एक पैसा भी न हो तो भी अपने सपने को साकार किया जा सकता है। बस शर्त यह है कि अपनी परेशानियों के आगे आपको डटकर खड़े रहना पड़ेगा आइए जानते हैं उस शख्स के बारे में, जिन्होंने यह मुमकिन करके दिखाया है।
आमिर जो एक बेहद साधारण और मध्यवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाले है जिनके पिता चाहते थे कि वह किसी तरह पढ़ लिख कर अफसर बन जाए लेकिन आमिर का मन पढ़ाई लिखाई में बिल्कुल भी नहीं लगता था। किसी तरह परिवार के दबाव में उन्होंने बीटेक में एडमिशन लिया लेकिन पढ़ाई में मन ना लगने की वजह से उनके टीचर ने भी कह दिया कि तुम अपने जीवन में कुछ नहीं कर पाओगे।
आमिर ने किसी तरह बीटेक पूरा करने के बाद घर वालों के दबाव में आकर नौकरी ज्वाइन की, लेकिन कुछ दिन नौकरी करने के बाद मन ना लगने की वजह से उन्हें नौकरी छोड़ दी। क्योंकि आमिर कुछ बड़ा करना चाहते थे नौकरी छोड़ने के बाद आमिर फ्रीलांसिंग का काम शुरू कर दिया। ग्राफिक डिजाइनिंग में रूचि रखने की वजह से उनके कई ऑस्ट्रेलिया की क्लाइंट जुड़े हुए थे।
बातों ही बातों में उनके एक ऑस्ट्रेलिया के क्लाइंट ने बताया कि वह अपने काम को ऑस्ट्रेलिया में बड़े पैमाने पर कर सकते हैं। क्लाइंट की यह बात सुनकर आमिर उससे बहुत प्रभावित हुए। जिसके बाद वह ऑस्ट्रेलिया जाने के लिए सारी जानकारियां जुटाने में लग गए। फिर उन्हें पता चला कि आस्ट्रेलिया केवल एक ही तरीके से ही जाया जा सकता है जो है स्टूडेंट वीजा पर, उसके बाद आमिर ने एमबीए में एडमिशन कराया था कि वह स्टूडेंट के तौर पर ऑस्ट्रेलिया जा सके।
आमिर किसी तरह आस्ट्रेलिया पहुंचे तो जरूर लेकिन उनकी परेशानी कम होने का नाम ही नहीं ले रही थी। जेब में पैसों की कमी के चलते उन्हें काम तलाशना पड़ा।
काफी तलाश के बाद उन्हें एयरपोर्ट पर सफाई कर्मी का काम मिला लेकिन अपने काम को आमिर समय नहीं दे पा रहे थे। इसलिए उन्होंने उस काम को छोड़ अखबार बाटना शुरू किया। वह सुबह 3 बजे उठकर अखबार बांटने निकल जाते और 7 बजे अखबार बांटने के बाद वह अपने बिजनेस पर ध्यान देना शुरू कर देते। कुछ दिन गुजरने के बाद उन्हें वहां गैराज मिला जहां पर वह अपने बिजनेस को और विस्तार देने लगे।
आमिर का बिजनेस अब धीरे-धीरे रफ़्तार पकड़ना शुरू ही कर रहा था कि अचानक उन्हें बस में यात्रा के दौरान एक व्यक्ति ने ऐसे सिस्टम के बारे में जानकारी दी कि उन्हें हर महीने 5 हजार डॉलर की बड़ी बचत होनी शुरू हो गई। इसके अलावा उस व्यक्ति ने आमिर की काफी मदद की और साथ ही कई और भी क्लाइंट दिलवाए। इसके बाद आमिर ने पीछे मुड़कर नहीं देखा इस समय आमिर की कंपनी में 100 स्थाई और 300 अस्थाई कर्मचारी काम करते हैं इस समय आमिर की कंपनी का सालाना टर्नओवर 10 करोड़ के पार है। वहीं आमिर ऐसे लोगों के लिए रोड मॉडल बन चुके हैं जो पढ़ाई लिखाई में भले ही पीछे रहे लेकिन मेहनत से पीछे नहीं हटते हैं।
Advertisement
More from LifestyleMore posts in Lifestyle »

Be First to Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *