|

4 ऐसे मौके जब भारतीय खिलाड़ियों ने देश को नजरअंदाज कर अपने शतक के लिए खेला मैच, नंबर 3 को कहा जाता है क्रिकेट का भगवान

कोई भी बल्लेबाज या गेंदबाज हो क्रिकेट के मैदान में वो आपने देश के लिए खेलता है ना की आपने लिए, क्रिकेट के इतिहास में ऐसे बहुत से खिलाड़ी हैं जो 50 होने तक धाकड़ बल्लेबाजी करते हैं लेकिन आपने रिकॉर्ड को बनाने के लिए या आपने स्वार्थ के लिए अगले 50 रन बहुत धीमी बल्लेबाजी करते हैं.

अभी तक आपने स्वार्थ के लिए वनडे क्रिकेट के इतिहास में सबसे धीमा शतक बनाने का रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर डेविड बून के नाम है उन्होंने 166 गेंदों पर 1991/92 में भारत के खिलाफ शतक बनाया था।  आज हम आपको 4 ऐसे भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बताने वाले है जिन्होंने आपने स्वार्थ के लिए मैच खेला

सौरव गांगुली

ये रिकॉर्ड सौरभ गांगुली के नाम भी दर्ज है  उन्होंने वनडे मैचों क दूसरा सबसे धीमा शतक सौरव गांगुली ने लगाया था उन्होंने 1999 में श्रीलंका के खिलाफ नागपुर में यह पारी खेली थी। यहाँ पर उन्होंने 141 गेंदों में शतक लगाया था.

अजय जडेजा

999 क्रिकेट विश्व कप के पहले सुपर 6 मैच में अजय जड़ेजा ने ये कारनामा किया था, ऑस्ट्रेलिया ने इस मैच में 282 रन गए थे यहाँ अजय आपने देश के लिए ना खेलकर अपना शतक जड़ने के लिए बहुत श्लो खेले थे. अजय जडेजा ने 138 गेंदों में शतक लगाकर अंत तक नाबाद रहे,

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर को तो वैसे क्रिकेट का भगवान कहा जाता है लेकिन कई ऐसे मौके देखे जहाँ सचिन खुद आपने स्वार्थ के लिए खेले हैं टीम कोका कोला चैंपियंस ट्रॉफी 2000 के पहले मैच में भारत के सामने श्रीलंका की टीम थी।  यहाँ सचिन ने अपना सबसे स्लो शतक लगाया था और भरिय टीम ये मैच हर गयी थी.

संजय मांजरेकर

भारत के संजय मांजरेकर  ने लगातार ९ घंटे मैदान पर खड़े होकर बल्लेबाजी की थी 1992 में जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे टेस्ट मैच के दौरान 397 गेंदों पर शतक ठोका था. ये आज तक का सबसे स्लो शतक है मांजरेकर ने 104 रन बनाए जिसमें उन्होंने 422 गेंदों का सामना किया था. यह टेस्ट मैच भी ड्रा पर खत्म हुआ था.

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.