5 बेटियों के जन्म पर परिवार वाले और घर वाले मारते थे ताने, अब 3 बेटी बनी अफसर तो 2 हैं इंजिनियर, मां-बाप का हुआ गर्व से सीना चौड़ा

हमारे समाज में अलग तरह की ही रीत चली आ रही है की घर में पैदा हो तो लड़का हो, अब सबको लड़के ही चाहिए तो उनकी शादी किस्से होगी? ये भी एक सोचने वाली बात है. अगर घर में लड़की जन्म ले लेती है तो एक अलग तरह की उदासी आ जाती है वही दूसरी तरफ लड़का जन्म ले लेता है तो पुरे घर में धूमधाम होती है. ऐसा ही कुछ हुआ उत्तर प्रदेश के बरेली में एक दंपति के साथ.

बरेली जिले की फरीदपुर तहसील के अंतर्गत चंद्रसेन सागर और मीना देवी के घर पहली संतान के रूप में बेटी का जन्म हुआ। फिर एक-एक कर पांच बेटियां हुईं। लोग 5 बेटियों के जन्म पर ताने मारने लगे। लोग बोलते थे क्या इनको IAS-IPS बनोगे ? लेकिन उन्होंने लोगो की इस बात को दिल से लगा लिया। आज इन पाचों बेटियों ने अपने मां-बाप का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया है।

पांचों बनी अधिकारी :

चंद्रसेन सागर की पांच में से तीन बेटियों ने यूपीएससी परीक्षा (UPSC Exam) पास की। दो बेटियां आईएएस और तीसरी बेटी आईआरएस अधिकारी है। वहीं बाकी दो बेटियां भी इंजिनियर हैं।

पहली बार में पास की UPSC एग्जाम 

चंद्रसेन की पहली बेटी अर्जित सागर ने 2009 में अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास की। इसके बाद वह जॉइंट कमिश्नर कस्टम मुंबई में पोस्टेड हो गईं। अर्जित की शादी आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में हुई है। उनके पति भी आईएएस अफसर हैं।

दो बेटियां इंजीनियर 

तीसरे और चौथे नंबर की बेटी अश्विनी और अंकिता इंजिनियर हैं। वे अभी मुंबई और नोएडा में प्राइवेट जॉब कर रही हैं।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.