-60 डिग्री तापमान में 6500 किलोमीटर का सफ़र प्लेन के पहिए में छिपकर लंदन पहुंचा प्रदीप सैनी

Advertisement

अभी कुछ समय पहले अफगानिस्तान से कुछ विडियो वायरल ही थे जिसमे कुछ युवक प्लेन पर बैठकर देश छोडकर भागना चाहते थे. लेकिन उनको इस बात का बिलकुल भी अंदाजा नहीं था की आगे चलकर क्या होगा और उसका अंजाम बहुत बुरा हुआ, कुछ बीच हवा में से ही गिकर गए.

Advertisement

जिसने भी इन भारतीयों के बारे में सुना वो हैरान रह गया, इस किस्से को पढने के बाद आपके रौंगटे खड़े हो जायंगे एक भारतीय ने ये कारनामा कर दिखाया है. ये भारतीय दिल्ली से लंदन तक प्लेन के बाहर बैठकर सुरक्षित पहुंच चुका है. जब इस बात की ख़बर पूरी दुनिया को पता चली तो लोग हक्के-बक्के रह गए.

द सन की एक रिपोर्ट के मुताबिक ये खबर1996 की है, जब भारत के पंजाब के रहने वाले दो भाई प्रदीप सैनी  (23 साल) और विजय सैनी (19 साल) ब्रिटिश एयरवेज़ के एक विमान के लैंडिंग गियर में छिप कर भारत से लंदन पहुंच गए थे. इन दोनों भाइयों की कहानी ने पूरी दुनिया को हैरत में डाल दिया था. असल में ये दोनों भाई लंदन जाना चाहते थे. इनदोनों के पास न तो विज़ा था और ना ही इतने पैसे.

Advertisement

ऐसे में इन्होंने प्लेन से भागने का प्लान किया. दोनों भाई पंजाब से दिल्ली आ गए. यहां इंदिरा गांधी एयरपोर्ट की रेकी की, मौका मिलते ही एयपोर्ट के अंदर दाखिल हो गए और लोगों से छिपकर प्लेन के पहिए के पास लैंडिंग गियर में बैठ गए. दोनों भाई लंदन जाने के लिए इतने उत्सुक थे कि उन्हें अपनी जान की परवाह भी नहीं थी.

लंदन से दिल्ली की दूरी लगभग 6500 किलोमीटर है और ये सफर पुरे 10 घंटे में कम्पलीट होता है,  ऐसे में इन दोनों भाइयों ने लैंडिग गियर में छिपकर लंदन जाने का फ़ैसला लिया. जब ये लंदन पहुंचे तो ठंड के मारे और इंजन की आवाज़ के शोर के कारण ये होश में नहीं थे. दुर्भाग्य से प्रदीप सैनी तो बच गए मगर उनका छोटा भाई विजय सैनी नहीं बच पाए. रास्ते में ही वो प्लेन से गिर गए.

प्रदीप की हालत ख़राब होने पर उन्हें लंदन के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. होश आने के बाद जब प्रदीप ने अपनी कहानी सुनाई तो सभी चौंक गए. किसी भी आम इंसान इतना सहन नहीं कर सकता जितना प्रदीप सैनी ने सहन किया है. 10 घंटा के सफ़र में -60 डिग्री सेल्सियस का डरावना तापमान.

अवैध रूप से ब्रिटेन में घुसने के कारण प्रदीप को 18 साल तक कानूनी प्रक्रिया से गुजरना पड़ा. अंत में प्रदीप को बरी कर दिया गया. अब वो ब्रिटिश नागरिक हैं और लंदन के एयरपोर्ट पर ड्राइवर का काम करते हैं.

News Source : News18

Advertisement
admin
Journalist from Gurugram. At @News Desk she report, write, view and review hyperlocal buzz of Delhi NCR. Can be reached at hello@newsdesk-24.com with Subject line starting Meenakshi