चुनावों में EVM पर रोक लगाने की मांग कर रही थी वकील, HC ने ₹10000 का जुर्माना लगाकर भेज दिया घर

Advertisements

जब से मोदी सरकार आई है और भारी मतों से जीती है तब से विपक्ष के दिमाग में ये बैठ गया है की EVM हैक किया जा रहा हैं, जब भी कांग्रेस या विपक्ष हारा है उसने EVM पर दोष लगाये है, कई वार तो नेताओ ने ये भी दोष लगाये है की वोट किसी को भी दो भाजपा को ही जाता है.

अब इसी के बीच वकील सीआर जया सुकिन ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी की चुनावो में EVM का प्रोयग ना किया जाये इसपर मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने इस याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा

Advertisements

न्यायमूर्ति डीएन पटेल ने याचिकाकर्ता पर 10,000 रुपए का जुर्माना लगाते हुए कहा कि यह याचिका जनहित याचिका बिल्कुल नहीं है, यह स्पष्ट रूप से एक ‘प्रचार हित याचिका’ है।

यह सिर्फ अफवाहों और निराधार आरोपों पर आधारित एक ‘प्रचार हित याचिका’ है।

Advertisements

क्या कहा वकील ने 

रिपोर्ट के मुताबिक  वकील ने कहा, “इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) को पूरे भारत में पारंपरिक मतपत्रों से बदला जाना चाहिए क्योंकि मतपत्रों के माध्यम से मतदान किसी भी देश की चुनावी प्रक्रिया के लिए अधिक विश्वसनीय और पारदर्शी तरीका है।”

Advertisements

वकील ने अपनी याचिका में यह भी कहा कि अमेरिका, जापान, जर्मनी और अन्य जैसे विकसित देशों ने चुनावों के दौरान ईवीएम को खारिज कर दिया है और बैलेट से मतदान प्रणाली को चुना है।

Image Source : Dopoltics

Advertisements

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.