शारीरिक अक्षमताओं वाले खिलाड़ी
ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group Join Now

क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमें खिलाड़ियों को फिट रहना बहुत आवश्यक है ताकि वो मैदान पर बेहतर प्रदर्शन कर सके। आपने मैदान पर कई कैसे क्रिकेटरों को देखा होगा जो अच्छी फील्डिंग करते हैं, क्योंकि वो अपनी फिटनेस पर सबसे ज्यादा देते हैं। यही कारण है कि क्षेत्रक्षण के दौरान वो किसी भी गेंद को रोकने में कामयाब होते हैं। आज हम आपको क्रिकेट इतिहास के उन 5 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं जो शारीरिक अक्षमताओं के बावजूद इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने में सफल रहे।

1. मार्टिन गप्टिल

मार्टिन गप्टिल न्यूजीलैंड के तूफानी ओपनर बल्लेबाज है जिन्होंने कई बड़ी-बड़ी पारियां खेली है। जब गप्टिल मात्र 13 साल के थे, तो उस दौरान उनके साथ एक एक्सीडेंट हुआ था और एक गाड़ी ने उनके पैर कुचल दिए। जिस वजह से गप्टिल के बाएं पैर में सिर्फ दो ऊँगली है, लेकिन फिर भी वो इंटरनेशनल क्रिकेट में शानदार बल्लेबाजी करते हैं।

2. भागवत चंद्रशेखर

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व लेग स्पिनर भागवत चंद्रशेखर टीम इंडिया के लिए 58 टेस्ट में 242 विकेट चटकाए हैं। वहीं एक वनडे मैच खेलत हुए भी उन्होंने तीन विकेट झटके हैं। चंद्रशेखर जब मात्र 6 साल के थे तब वो पोलियोमाइलाइटिस से पीड़ित हो गए। यह एक संक्रामक रोग है जो पोलियो वायरस की वजह से हो जाता है। इस बीमारी की वजह से भागवत चंद्रशेखर का दाहिना हाथ पोलियोग्रस्‍त हो गया, लेकिन फिर भी उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन किया।

3. वॉशिगंटन सुंदर

युवा भारतीय ऑलराउंडर वॉशिगंटन सुंदर के बारे में आप अच्छी तरह जानते होंगे। क्योंकि इन दिनों वो कोरोना की वजह से साउथ अफ्रीका दौरे पर नहीं गए हैं। आपको बता दें कि सुन्दर भी शारीरिक अक्षमताओं का शिकार है, क्योंकि वो एक कान से बिल्कुल भी नहीं सुनते हैं।

4. टोनी ग्रेग

इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर टोनी ग्रेग के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे। दक्षिण अफ्रीका में जन्मे इंग्लैंड के इस ऑलराउंडर ने अपने क्रिकेट करियर में 58 टेस्ट मैच खेलते हुए 8 शतक की मदद से 3599 रन बनाए हैं और 141 विकेट भी चटकाया है। आपको बता दें कि टोनी ग्रेग बचपन में ही मिर्गी से ग्रसित हो गए थे, लेकिन फिर उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में बेहतर प्रदर्शन किया।

5. लेन हटन

इंग्लैंड के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज लेन हटन अपने क्रिकेट करियर में 79 टेस्ट मैच खेलते हुए 56.22 की बेहतरीन औसत के साथ 6971 रन बनाए हैं। लेन हटन का एक हाथ तकरीबन दो इंच छोटा था, क्योंकि एक सर्जरी के दौरान उनका एक हाथ दो इंच छोटा करना पड़ा था। बता दें कि चोट लगने की वजह से हटन के उस हाथ को सर्जरी करना पड़ा था, लेकिन फिर उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में धमाल मचाया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *