यूपी के इस गाँव में पैदा होते है असफर, 75 घरों में से कोई न कोई है IAS-PCS, कहा जाता है अफसरों का गांव

Advertisement

आईएएस, आईपीएस भारत की सबसे बड़ी नौकरी कहा जाता है इसको पाने के लिए कई साल की कड़ी मेहनत करनी पड़ती है तब जाकर ये नौकरी मिलती है, अगर किसी से पूछा जाये की सबसे कठिन पेपर कौनसी नौकरी का आता है तो वो आपको UPSC का बतायेगा.

Advertisement

लेकिन यूपी के एक गाँव ने इस एग्जाम और नौकरी को खेल समझ रखा है हर कोई चुटकियों में इस नौकरी को पा लेता है, इस गाँव में हर घर से एक न के IAS-PCS बना हुआ है.

यहाँ हम बात कर रहे हैं यूपी के माधवपुर पट्टी गाँव की, इस गाँव को अफसरों का गाँव कहा जाता है , इस गाँव में 75 घर है और हर के घर से कोई ना कोई IAS-PCS है  गांव में 75 घर हैं और गांव से 50 लोग अफसर हैं. ऐसा नहीं है कि बेटे और बेटी ही अफसर हैं. उनकी अगली पीढ़ी भी अफसर ही है

Advertisement

गाँव के कुछ नौजवान  इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन में नौकरी करते हैं इस गाँव में एक बहुत ही बड़ा रिकॉर्ड बनाया हुआ है जो आज तक कोई नही तोड़ पाया, इस गाँव में एक ही घर से 4 भाई-बहन आईएएस हैं.

एक रिपोर्ट के मुताबिक इस गाँव में हर घर में सरकारी नौकरी है लेकिन गाँव में तरक्की नही हुई है गांव की सड़कें खराब हैं. मेडिकल फैसिलिटी भी बहुत बेसिक है. इलेक्ट्रिसिटी सप्लाई भी बुरी है. यहाँ तक गाँव में IASकी तैयारी करने के लिए कोई कोचिंग सेंटर भी नही है बच्चे पढने के लिए बाहर जाते हैं.

सभार : .indiatimes.com

Advertisement