टीम इंडिया
ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group Join Now

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच चल रही तीन टेस्ट मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला 11 जनवरी से केपटाउन में खेला जाएगा। उस मुकाबले को जो भी टीम जीतेगी, उसके नाम यह सीरीज दर्ज हो जाएगा। क्योंकि इस टेस्ट सीरीज के पिछले दोनों मैचों में दोनों ही टीम ने एक-एक मुकाबला जीत दर्ज कर किया है। यही कारण है कि यह टेस्ट सीरीज रोमाचंक स्थिति में पहुंच गया है।

भारतीय टीम के पास साउथ अफ्रीका में इतिहास रचने का बहुत बड़ा मौका है, क्योंकि इससे पहले दक्षिण अफ्रीका की धरती पर टीम इंडिया एक बार भी टेस्ट सीरीज अपने नाम नहीं कर पाई है। इस बार भारत के पास बढ़िया मौका है, क्योंकि मेजबान टीम के अधिकतर खिलाड़ी अनुभवहीन है जिसका फायदा इंडियन खिलाड़ी उठा सकते हैं। तीसरा और अंतिम टेस्ट मैच केपटाउन में खेला जाएगा, जहां पर भारत का पिछला रिकॉर्ड बेहद खराब रहा है। इससे आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगले मैच का परिणाम कैसा हो सकता है।

केपटाउन में भारत और दक्षिण अफ्रीका का रिकॉर्ड

दक्षिण अफ्रीका और भारत के बीच केपटाउन में कुल 5 टेस्ट मैच खेले गए हैं और उस दौरान भारत को तीन मुकाबलों में हार का सामना करन पड़ा है। साल 1993 में इस मैदान पर पहला टेस्ट मैच खेला गया था, जो ड्रॉ रहा था। उसके बाद दूसरा मुकाबला साल 1997 में खेला गया था, जिसमे टीम इंडिया को 282 रनों से करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी।

फिर 2007 में भी केपटाउन के मैदान पर भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच टेस्ट मैच खेला गया, जिसमे 5 विकेट से भारत को हार का सामना करना पड़ा था। उसके बाद साल 2011 में भी इस मैदान पर दोनों ही टीमों ने टेस्ट मैच खेला था और उस दौरान वह मुकाबला ड्रॉ रहा था। इन सबके बाद साल 2018 में भी वहां पर भारत को 72 रनों से हार मिली थी। इस तरह केपटाउन में भारत एक भी मैच नहीं जीत पाई है।

आपको बता दें कि भारतीय टीम पिछली बार साल 2018 में साउथ अफ्रीका दौरे पर गई थी और उस दौरान टीम इंडिया का कप्तान विराट कोहली थे। उस वर्ष दक्षिण अफ्रीका की टीम काफी मजबूत थी, जिस वजह से भारत को 72 रनों से हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन इस बार की मेजबान टीम थोड़ी कमजोर है, इस वजह से कप्तान विराट कोहली पिछली बार मिली हार का बदला अवश्य लेना चाहेंगे। लेकिन इस के लिए टीम इंडिया के सभी खिलाड़ियों को बेहतर प्रदर्शन करना होगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *