दुनिया की सबसे विशालकाय नहर, जिसे पार करने में जहाजों को लगते हैं 10 घंटे, 100 साल पहले हुआ था निर्माण

Advertisement

कुछ दिन पहले की बात की एक नहर में बड़ा जहाज अटक गया था रो इस जहाज ने पूरी दुनिया का ध्यान अपनी तरफ खीच लिया था. नहर में इस जहाज के अटकने से कई देशो को करोड़ो रूपये का नुकसान हुआ था ये वही नहर है इस नहर को पनामा झील के नाम से भी जाना जाता है.

Advertisement

ये दुनिया की सबसे लंबी नहर है इसको पर करने में एक जहाज को करीब 12 घंटे का समय लग जाता है  इस नहर के बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे।

इमेज : सोशल मीडिया

ये नहर मध्य अमेरिका के पनामा में स्थित है। इसलिए इसका नाम पनामा नहर पड़ा.  यह नहर प्रशांत महासागर और  अटलांटिक महासागर को जोड़ती है। इस नहर की कुल लम्बाई   82 किलोमीटर है. इस नहर से   साल 15 हजार से भी अधिक छोटे-बड़े जहाज गुजरते हैं।

Advertisement
इमेज : सोशल मीडिया

पनामा नहर मीठे पानी की झील ‘गाटुन’ से होकर गुजरती है, जिसका जलस्तर समुद्रतल से 26 मीटर ऊपर है। ऐसे में यहां जहाजों के प्रवेश के लिए तीन लॉक्स बनाए गए हैं,

इमेज : सोशल मीडिया

जिनमें जहाजों को पहले प्रवेश कराया जाता है और फिर पानी भरकर उन्हें ऊपर उठाया जाता है, ताकि वो इस झील से होकर गुजर सकें।

इमेज : सोशल मीडिया

यह दुनिया का अकेला ऐसा जलमार्ग है, जहां किसी भी जहाज का कप्तान अपने जहाज को पूरी तरह से पनामा के स्थानीय विशेषज्ञ कप्तान को सौंप देता है। और इस दौरान वो खुद इस जहाज को चलाते हैं.

इमेज : सोशल मीडिया

फ्रांस ने साल 1881 में इसे बनाने का काम शुरू किया, बाद में इसको बंद कर दिया गया था फ्रांस ने लगभग नौ साल तक इसे बनाने का काम किया, लेकिन इस दौरान यहां करीब 20 हजार लोगों की मौत हो गई।

Advertisement
admin
Journalist from Gurugram. At @News Desk she report, write, view and review hyperlocal buzz of Delhi NCR. Can be reached at hello@newsdesk-24.com with Subject line starting Meenakshi