धोनी के सन्यास के बाद टीम इंडिया पर पड़े हैं ये बुरे प्रभाव, देखते देखते पाकिस्तान से भी बुरी हो गयी हालत

महेंद्र सिंह धोनी एक ऐसा खिलाड़ी जो विकेट के पीछे से खड़े होकर पुरे मैच को पलट देते थे. अब शायद ही भारतीय क्रिकेट के इतिहास में ऐसा कोई खिलाड़ी आयेगा जो धोनी की जगह को भर पायेगा.महेंद्र सिंह धोनी ने टीम इंडिया से काफी समय पहले सन्यास ले लिया है लेकिन उनकी कमी टीम इंडिया में साफ दिख रही है.

महेंद्र सिंह धोनी की कमी की वजह से टीम इंडिया की हालत डाउन होती जा रही है जिसका नतीजा ये रहा की T-20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम पाकिस्तान से भी हार गयी, हारी भी इतनी बुरी की एक विकट न गिरा पायी. तो आज हम आपको ऐसे कुछ प्रभावों के बारे में बताने जा रहे हैं जो धोनी के सन्यास के बाद टीम इंडिया पर पड़ेंगे.

धोनी का खुद का डीआरएस सिस्टम

धोनी विकेट के पीछे इतने स्टिक तरीके से कीपरकरते थे की वो  विकेट के पीछे खड़े होकर धोनी तुरंत कोहली को बता देते हैं कि रिव्यू लेना है या नहीं लेना है लेकिन अब टीम में धोनी नहीं है. जिसकी वजह से टीम को कई बार रिव्यु से हाथ धोना पड़ा है

नहीं होगा कोई धोनी जैसा विकेटकीपर

अब धोनी टीम में नहीं हैं तो धोनी जैसा कोई विकेटकीपर टीम में नहीं है. बेशक धोनी की जगह टीम में नए खिलाड़ी को जंग मिल गयी लेकिन फिर भी विकेट के पीछे चीते जैसी तेज़ी आपको नहीं दिखने वाली है.

मैच को अंत तक ले जाने वाला खिलाड़ी

धोनी के सन्यास के बाद भारतीय टीम में ऐसा मकोई खिलाड़ी नही है जो मैच को अंत तक ले जाए, सब जल्दी आउट हो जाते हैं, मिडिल आर्डर पर विकेट रोकने के लिए भी कोई नही है आईपीएल आज भी धोनी के नाम से अच्छी अच्छी टीम घबरा जाती हैं और जब धोनी टीम में नहीं है  तब वाक़ई निचले क्रम में टीम कमज़ोर हो जाएगी

आज भी कोहली आख़री ओवेर्स में घबरा जाते हैं

धोनी अगर टीम में होते थे तो टीम की ताकत बनी होती थी  कई बार ऐसा आज भी होता है कि कोहली आख़री ओवेर्स में घबरा जाते हैं. लेकिन धोनी तब सामने आकर टीम इंडिया की मदद करतेथे. अगर अब धोनी टीम में नहीं होंगे तो तब उस स्थिति में टीम की उस तरह से मदद कोई नहीं कर पाएगा जैसी आज धोनी करते हैं.

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.