राहुल द्रविड़

क्रिकेट इतिहास के इन 3 रिकॉर्ड पर सिर्फ राहुल द्रविड़ का कब्जा, आज तक कोई खिलाड़ी आसापस भी नहीं पहुंच पाया

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ वर्तमान में टीम इंडिया के हेड कोच है, लेकिन इससे पहले उन्होंने भारत के लिए अपनी बल्लेबाजी से बड़े-बड़े कारनामे किए हैं। यही कारण है कि द्रविड़ के नाम अनेकों रिकॉर्ड दर्ज है, लेकिन उनमे से कुछ ऐसे रिकॉर्ड भी शामिल है जो सिर्फ राहुल द्रविड़ ने ही बनाया है। मेरे कहने का मतलब यह है कि राहुल द्रविड़ के अलावा दुनिया का कोई भी खिलाड़ी उस रिकॉर्ड को बनाने में सफल नहीं रहे। तो चलिए अब हम आपको द्रविड़ के ऐसे ही तीन बड़े रिकॉर्ड के बारे में बताते हैं।

1. साझेदारी में सबसे अधिक रन बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड

राहुल द्रविड़ टीम इंडिया के लिए कई शानदार पारियां खेल चुके हैं। वहीं टेस्ट क्रिकेट में राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर की जोड़ी सबसे सफल जोड़ी मानी जाती है, क्योंकि इन दोनों बल्लेबाजों ने टेस्ट में 50.51 की औसत से 6920 रनों की साझेदारी की है। उस दौरान इन दोनों खिलाड़ियों के बीच 20 बार शतकीय साझेदारी भी हुई है जो एक विश्व रिकॉर्ड है। वर्तमान में दुनिया की कोई भी जोड़ी टेस्ट क्रिकेट में इस रिकॉर्ड के आसपास भी नहीं है।

2. टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक कैच

जिस तरह राहुल द्रविड़ बल्लेबाजी किया करते थे, बिल्कुल उसी तरह वो फील्डिंग भी करते थे। इसी वजह से उन्हें दुनिया के सबसे बेहतरीन फील्डरों में से एक माना जाता है। द्रविड़ अपने करियर में कुल 164 टेस्ट मैच खेले हैं और उस दौरान उन्होंने सबसे अधिक 210 कैच लपकने का कारनामा किया है। आपको बता दें कि द्रविड़ 210 में से 55 कैच सिर्फ अनिल कुंबले की गेंद पर कैच लिया है। इस सूची में दूसरे स्थान पर श्रीलंका के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज महेला जयवर्धने का नाम है जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में 205 कैच लपके हैं।

3. वनडे क्रिकेट में दो बार 300 रनों की साझेदारी में शामिल

राहुल द्रविड़ दुनिया के एक ऐसे बल्लेबाज है जिन्होंने वनडे क्रिकेट में दो बार 300 रनों की साझेदारियां निभाई है। साल 1999 के वर्ल्ड कप में भारत और श्रीलंका के बीच एक मुकाबला खेला जा रहा था, जिसमे द्रविड़ ने गांगुली के साथ मिलकर 318 रनों की साझेदारी की थी। उसके बाद दूसरी बार राहुल द्रविड़ सचिन तेंदुलकर के साथ मिलकर न्यूजीलैंड के खिलाफ एक वनडे मैच में 331 रनों की साझेदारी की थी। दुनिया का कोई भी क्रिकेटर आज तक दो बार ऐसा नहीं कर पाया।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.