|

बेहद खूबसूरत है मिर्जापुर वाले कालीन भैया की असली वाइफ, गरीबी के चलते रहते थे होस्टल में, आज रहते हैं कोरोड़ के बंगले में

पंकज त्रिपाठी बिहार के गोपालगंज स्थित बेलसांद गांव की एक ब्राह्मण फैमिली में पैदा हुए। उन्होंने दिल्ली के नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा (NSD) से एक्टिंग सीखी है। पंकज ने 2004 में मृदुला से शादी की और मुंबई चले आए। पंकज को उनकी बेहतरीन एक्टिंग के लिए जाना जाता है। पंकज त्रिपाठी ने करियर की शुरुआत 2004 में आई फिल्म ‘रन’ से की थी। हालांकि इसमें उनका बहुत ही छोटा रोल था, जिसकी वजह से किसी ने नोटिस नहीं किया। पंकज की एक बेटी है, जिसका नाम आशी है।

वेब सीरिज मिर्जापुर के कालीन भैया नजर आए। ‘शानदार शुक्रवार’ एपिसोड में एक्टर पंकज त्रिपाठी अपनी पत्नी मृदुला के साथ नजर आए। हालांकि हॉट सीट पर पंकज त्रिपाठी के साथ एक्टर प्रतीक गांधी नजर आए। इस दौरान अमिताभ बच्चन ने पंकज त्रिपाठी से अपनी लव स्टोरी सुनाने की रिक्वेस्ट कर डाली। इस बात का पंकज त्रिपाठी ने भी मजेदार अंदाज में जवाब दिया। जानें लव स्टोरी पर क्या बोले कालीन भैया.

जब बिग बी ने पंकज से अपनी लव स्टोरी बताने के लिए कहा, तो उन्होंने जवाब दिया कि वो इसका ऑरिजिनल वर्जन अपनी किताब के लिए बचा कर रखना चाहते हैं। पंकज ने कहा- मैंने दर्शकों के आधार पर अपनी लव स्टोरी के कई वर्जन शेयर किए हैं। मैंने कहानी सुनाने की कला अपनी सासू मां से सीखी है। लेकिन मैं इसका ऑरिजिनल वर्जन अपनी किताब के लिए बचा रहा हूं। मुझे वहां से रुपए मिलेंगे।

पंकज त्रिपाठी ने आगे बताया कि मैंने ही मृदुला को शादी के लिए पहले प्रपोज किया था। इस पर जब उन्होंने मुझसे वजह पूछी तो मैंने कहा- जब आप शादी के लिए हां कर देंगी तो मैं आपको डेट करने लगूंगा। इस पर अमिताभ ने पंकज की पत्नी मृदुला से पूछा क्या उन्होंने कभी सोचा था कि पंकज इतने मशहूर हो जाएंगे। इस पर मृदुला ने जवाब दिया- नहीं, हमने तो कभी मुंबई आने के बारे में भी नहीं सोचा था।

कुछ साल पहले कपिल शर्मा के शो में पहुंचे पंकज त्रिपाठी ने अपनी जिंदगी के कुछ मजेदार किस्से शेयर किए थे। उनके मुताबिक, उनकी शादी NSD से पासआउट करने से पहले ही हो गई थी। ऐसे में उन्होंने अपनी पत्नी को अपने साथ ब्वॉयज हॉस्टल के कमरे में ही चोरी-छुपे रखा हुआ था।

पंकज ने बताया था कि हॉस्टल में लड़कियों को आने की सख्त मनाही थी। इसके बावजूद उन्होंने अपनी पत्नी को सबकी नजरों से बचा कर अपने कमरे में छुपाके रखा था। ब्वॉयज हॉस्टल में लड़के अक्सर फ्री होकर घूमते हैं कम कपड़े पहनते हैं। लेकिन जब लड़कों को पता चला कि उनकी पत्नी भी उनके साथ रह रही थीं तो उन सभी ने काफी सपोर्ट किया। हालांकि कुछ वक्त के बाद वार्डन को इस बारे में पता चल गया था।

10वीं क्लास तक गांव में ही पढ़ने के बाद पिता ने पंकज त्रिपाठी को पटना भेज दिया था। वो साल भर केवल दाल चावल या खिचड़ी ही खाते थे। एक कमरे में रहते थे, जिसके ऊपर टीन शेड था। उन्होंने यहीं से 12वीं पास की और घरवालों, मित्रों के कहने पर होटल मैनेजमेंट का कोर्स करने लगे।

पंकज त्रिपाठी ने एक इंटरव्यू में बताया कि कि उनके जीवन में एक समय ऐसा भी आया था जब बीवी का जन्मदिन था और उनकी जेब में केवल 10 रुपए ही बचे थे। क्या गिफ्ट देते और कैसे केक लाते? हालांकि उनकी पत्नी मृदुला बीएड कोर्स कर चुकी थीं, इसलिए उन्हें एक स्कूल में टीचर की जॉब मिल गई। इसके बाद दोनों ने तय कर लिया था वापस नहीं लौटना है। फिर पंकज को छोटे-छोटे रोल मिलने लगे थे।

 

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.