|

CDS Bipin Rawat के हेलीकॉप्‍टर को उड़ा रहे थे आगरा के पृथ्‍वी सिंह चौहान, बेटी आराध्‍या और अविराज का रो रोकर बुरा हाल, परिवार ने खोया इकलौता सपूत

Advertisements

सीडीएस बिपिन रावत के साथ आगरा के लाल पृथ्‍वी सिंह चौहान भी शहीद हुए हैं। पृथ्‍वी सिंह ही इसी हेलीकॉप्‍टर के पायलट थे। पृथ्‍वी के युद्ध कौशल की वायुसेना कायल थी। सूडान में विशेष ट्रेनिंग लेने के बाद पृथ्‍वी की गिनती वायुसेना के जाबांज पायलट्स में होती थी। इस हादसे ने सीडीएस रावत के साथ आगरा का भी एक जाबांज खो दिया है। यहां उनके घर पर रिश्‍तेदार और नातेदारों का जमावड़ा है। हालांकि भारतीय वायुसेना की तरफ से अभी तक उन्‍हें अधिकारिक सूचना नहीं मिली है। लेकिन पृथ्‍वी की पत्‍नी ने इस दुखद सूचना की पुष्टि की है।

पृथ्‍वी सिंह चौहान। जैसा भारीभरकम नाम, वही अंदाज और तेवर विंग कमांडर पृथ्‍वी सिंह के थे। अपने कौशल से दुश्‍मन के लड़ाकू विमानों को चकमा देने वाले पृथ्‍वी हेलीकॉप्‍टर में आई तकनीकी खामी से शहीद हो गए। एयरफोर्स ज्‍वाइन करने के बाद पृथ्‍वी की पहली पोस्टिंग हैदराबाद हुई थी।

Advertisements

आगरा के न्‍यूआगरा इलाके में पृथ्‍वी सिंह चौहान के घर पर भीड़ जुट चुकी है। देर शाम तक खबर धीरे धीरे लोगों में फैल गई थी। एक जमाने में मशहूर बीटा ब्रेड का उत्‍पादन करने वाले उनके 72 वर्षीय पिता सुरेंद्र सिंह ने बताया कि पृथ्‍वी उनके इकलौते और सबसे छोटी संतान थे। सरन नगर में परिवार निवास करता है। पिता ने कहा कि उनके पास तक अभी सीधी जानकारी नहीं आई है लेकिन मुंबई में रह रही सबसे बड़ी बेटी शकुंतला ने टीवी पर खबर देखी थी तो उसने पृथ्‍वी की पत्‍नी कामिनी को फोन किया। वहां से उन्‍हें बेटे के निधन की जानकारी मिली।

शहीद पृथ्‍वी सिंह चौहान के बारे में बताते हुए पिता सुरेंद्र सिंह की आंखें भर आईं। उन्‍होंने कहा कि पृथ्‍वी वर्तमान में 42 साल के थे और चार बहनों में सबसे छोटे भाई थे। बड़ी बहन शकुंतला, दूसरी मीना, गीता और नीता। पृथ्‍वी ने छठवीं कक्षा में सैनिक स्‍कूल रीवा में दाखिला लिया। वहीं से एनडीए में सलेक्‍ट हो गए। 2000 में भारतीय वायुसेना में ज्‍वाइनिंग हुई। वर्तमान में विंग कमांडर थे और कोयम्‍बटूर के पास एयरफोर्स स्‍टेशन पर तैनाती थी। पृथ्‍वी का विवाह सन 2007 में वृंदावन निवासी कामिनी से हुआ। उनके बेटी आराध्‍या 12 वर्ष और अविराज नौ वर्ष का पुत्र है।

Advertisements

मां सुशीला देवी ने बताया कि बेटा इस समय कोयम्‍बटूर के पास एक एयरफोर्स स्‍टेशन पर तैनात था। दोपहर में जब हेलीकॉप्‍टर क्रेश होने की खबर आई तो बड़ी बेटी शकुंतला ने अपने भाई पृथ्‍वी को फोन किया। उनका फोन स्विच ऑफ जा रहा था। इस पर बहू कामिनी को संपर्क साधा, कामिनी ने इस दुखद हादसे की जानकारी दी। मां ने बताया कि अभी एयरफोर्स के स्‍तर पर उन्‍हें सूचना नहीं मिली है।

Advertisements

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.