आज मुंबई में गगनचुंबी इमारते देखने को मिल जायँगी, लेकिन 100 साल पहले ऐसी दिखती थी सपनों की नगरी

Advertisement

मुंबई एक ऐसा शहर जिसका नाम दिमाग में आते ही फ़िल्मी दुनिया बड़े बड़े एक्टर और बड़ी बड़ी बिल्डिंग दिमाग में आने लगती है, कहा जाता है मुंबई कभी नही सोता, यानी यहाँ के लोग रात में भी नही सोते, भारत के हर कौने के का व्यक्ति एक बार अपनी जिन्दगी में यहाँ जाना चाहता है.

Advertisement

हर व्यक्ति का सपना होता है की मुंबई में उसका घर हो और यहाँ वो अपनी जिन्दगी गुजारे, आज के समय में मुंबई बड़ा आधुनिक हो गया है, आज आपको मुंबई में बड़े बड़े अमीर लोगो के साथ बड़ी बड़ी गगनचुंबी इमारते देखने को मिल जायँगी, लेकिन क्या आपको पता है 1900 की सतवादी में सपनों की नगरी मुंबई कैसी दिखती थी? नही ना तो चलिए आज हम आपको मुंबई के कुछ पराने फोटो दिखाते हैं.

हर सिक्के के दो पहलू होते है मुंबई बाहर की दुनिया से जितना खुबसूरत और अमीर दिखता है वही अंदर की दुनिया में बेहद गरीबी हैं, मुंबई में रहने वाली आधी से अधिक जनता के पास अपना घर नही है

Advertisement

Young Indian woman with her child in doorway of shack in the Chawls in the poor section of the city – Bombay (Mumbai) 1946 ( टूटे हुए घर में अपने चाँद के टुकड़े के साथ बैठी महिला )

Closeup of a Indian woman drinking from tap at the public water stand in the Chawlsin the poor section of the city – Bombay (Mumbai) 1946(पानी पीती एक महिला)

The Queen’s Statue, Bombay (Mumbai)—Circa-1870s, 1870 में मुंबई में बना रानी का स्टेचू 

Borat-Bazaar,-Bombay-(Mumbai)—Circa-1870s

Public-Buildings,-Bombay-(Mumbai)—Circa-1880’s

Bombay policeman, India ( मुम्बई में पुलिस वाला )

Advertisement
admin
Journalist from Gurugram. At @News Desk she report, write, view and review hyperlocal buzz of Delhi NCR. Can be reached at hello@newsdesk-24.com with Subject line starting Meenakshi