रविन्द्र जडेजा
ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group Join Now

भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलने का मौका तो बहुत सारे क्रिकेटर्स को मिला है, लेकिन उनमें से कुछ ही ऐसे खिलाड़ी है जो लगातार टीम इंडिया का हिस्सा रह पाए हैं। वहीं अधिकतर खिलाड़ियों को टीम से बाहर का रास्ता देखना पड़ता है, क्योंकि भारत में बहुत सारे क्रिकेटर्स है जो लगातार बेहतर प्रदर्शन करते हैं। इसी वजह से आज के समय में जो भी खिलाड़ी थोड़ा भी खराब प्रदर्शन करता है तो उनकी जगह अन्य खिलाड़ियों को मौका दे दिया जाता है।

आपने कई ऐसे खिलाड़ियों के बारे में सुना होगा जिन्होंने टीम इंडिया के लिए अच्छी प्रदर्शन की है, लेकिन उसके बावजूद भी भारतीय टीम में उन्हें मौका नहीं मिल पा रहा है। आज हम एक ऐसे इंडियन गेंदबाज के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने अपने अंतिम टेस्ट मैच में 10 विकेट चटकाया था, लेकिन उसके बाद उन्हें फिर कभी भारत के लिए खेलने का मौका नहीं मिल पाया।

जडेजा की वजह से बर्बाद हुआ इस खिलाड़ी का करियर

आज हम इस लेख में बाएं हाथ के पूर्व स्पिन गेंदबाज प्रज्ञान ओझा के बारे में बात करने जा रहे हैं जिन्होंने मात्र 33 साल की उम्र में क्रिकेट को अलविदा कह दिया था। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह रविन्द्र जडेजा थी। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अपना अंतिम टेस्ट मैच 14 नवंबर 2013 को वेस्टइंडीज के विरुद्ध खेला था और वह मुकाबला प्रज्ञान ओझा के क्रिकेट करियर का भी अंतिम मैच रहा।

प्रज्ञान ओझा अपना अंतिम टेस्ट मैच मुंबई में खेला था और उस मुकाबले की पहली पारी में उन्होंने 40 रन पर 5 विकेट और दूसरी पारी में 49 रन पर 5 विकेट चटकाया था। इस तरह दोनों पारियों को मिलाकर उस मैच में प्रज्ञान ओझा ने 89 रन देकर 10 विकेट अपने नाम किया था। लेकिन उसके बावजूद भी प्रज्ञान ओझा को फिर कभी भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका नहीं मिल पाया।

बता दें कि बाद में प्रज्ञान ओझा के गेंदबाजी एक्शन पर सवाल उठा दिए गए थे। उसके बाद उन्होंने अपने एक्शन में सुधार करते हुए आईसीसी से क्लीन चीट हासिल किया। लेकिन तब-तब बहुत ज्यादा देर हो चुकी थी, क्योंकि उस दौरान रविन्द्र जडेजा टीम इंडिया के लिए बेहतरीन प्रदर्शन कर रहे थे। यही कारण है कि प्रज्ञान ओझा दोबारा टीम इंडिया के लिए खेलते नजर नहीं आए और उनका क्रिकेट करियर पूरी तरह बर्बाद हो गया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *