|

CDS Bipin Rawat : CDS बिपिन जी की सुरक्षा के लिए तैनात गुरसेवक भी शहीद, खबर सुनते ही पिता और पत्नी बेसुध..दोनों बेटियाँ पापा-पापा चीख रहे

Advertisements

इंडियन आर्मी में सूबेदार गुरसेवक सिंह नायक के पद पर तैनात थे। सेना की 9 पैरा स्पेशल फोर्स यूनिट में तैनात रहते हुए उन्हें CDS बिपिन रावत की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। 30 साल के जवान गरसेवक तरनतारन के सीमावर्ती गांव दोदे सोढियां के रहने वाले थे। वह अपने गांव में युवाओं के आर्दश थे, लेकिन अब बच्चे-बूढ़े और युवाओं से लेकर हर कोई उनकी याद में आंसू बहा रहा है।

नायक गुरसेवक सिंह पिछले महीने नवंबर ही में अपने गांव छुट्टी पर गए हुए थे। वह अपनी बेटियों से बेहद प्यार करते थे। उनके  2 बेटियां और एक बेटा है। बड़ी बेटी सिमरन 9 साल और छोटी बेटी गुरलीन 7 साल की है। उनका बेटा फतेह सिंह सिर्फ 3 साल का है। उनके भाई ने बताया कि गुरसेवक ड्यूटी पर कितना ही क्यों थक ना जाए,

Advertisements

लेकिन रात को अपनी बेटियों से बात जुरूर करते थे। लेकिन अब वही बच्चे पापा-पापा कहते हुए बिलख रहे हैं। 14 नवंबर को ही जवान ने छुट्टी काटकर ड्यूटी ज्वॉइन की थी। जाने से पहले वह परिवार के साथ बाबा बुड्ढा साहिब भी गया और परिवार के लिए आशीर्वाद लिया।

बता दें कि बुधवार शाम को यूनिट ने भाई गुरबख्श सिंह व जसविंदर सिंह को फोन करके उनके शहीद होने की जानकारी दी थी। लेकिन भाइयों ने  गुरसेवक के शहीद होने की खबर रात को पत्नी जसप्रीत कौर और बुजुर्ग पिता काबल सिंह को शहादत की जानकारी नहीं दी थी। बस इतना ही नहीं बताया कि वह ठीक हैं और इलाज चल रहा है।

Advertisements

लेकिन सुबह जैसे ही पत्नी को सच्चाई पता चली तो घर से मातम की चीखें सुनाई देने लगीं। पिता सुनते ही सुध-बुध खो बैठे..पूरे परिवार का रो-रोकर बुरा हाल है। गुरसेवक की दो बहने हैं और 5 भाई हैं। पूरा परिवार खेती पर ही निर्भर है। घर में वह एकमात्र नौकरी करने वाले थे

 

Advertisements

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.