|

शादी के 15 दिन बाद पति ने छोड़ा, लोग देते थे छुटी हुई औरत का ताना, 1 हजार रु. की नौकरी, अब IAS अफसर बनकर दिया मुंह तोड़ जबाब

Advertisements

ये कहानी है गुजरात में पैदा हुईं कोमल गनात्रा की। कोमल बचपन से ही पढ़ाई में बहुत होशियार थीं। वे गुजराती भाषा में पढ़ी और उन्होंने कई दफा अपने मां-बाप का नाम रोशन किया। कोमल ने ग्रेजेएशन के समय ही सिविल सर्विस की तैयारी करना शुरू कर दिया था।

Advertisements

कोमल ने ओपन यूनिवर्सिटी से तीन भाषाओं में अलग-अलग यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया। इसके साथ ही वो पढ़ाई भी कर रही थीं और मात्र 1 हजार में टीचर की नौकरी भी कर रही थीं।इस बीच कोमल की शादी एक एनआरआई से कर दी गई। लेकिन वो शख्स लालची था, उसने कोमल के परिवार से दहेज की मांग की और पत्नी को एग्जाम न देने और पढ़ाई न करने का दवाब भी बनाया।

उनकी शादी जिस एनआरआई से की गई वो उसे पति के रूप में प्यार भी करने लगीं। इतना प्यार की सरकार से उसके लिए लड़ गईं लेकिन वो शख्स उन्हें छोड़कर जा चुका था। उनका NRI पति ने उन्हें आईएएस का इंटरव्यू और एग्जाम देने को मना किया। इसके बाद वो उन्हें छोड़ न्यूजीलैंड चला गया।

Advertisements

कोमल के सिर पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। कोमल ने पति को वापस लाने के लिए न्यूजीलैंड की सरकार को कई लेटर लिखे, वो केस लड़तीं रहीं। पति को वापस लाना है ये सोच वो कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाती रहीं लेकिन वो शख्स वापस नहीं आना चाहता था उसने पत्नी को एक फोन तक नहीं किया।

कोमल गणात्रा तब 26 साल की थीं उन पर ‘छूटी हुई औरत’ का कलंक लग चुका था। ससुराल और रिश्तेदार उनपर हंसने लगे। साल 2012 में कोमल ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर परिवार का नाम रोशन कर दिया। उन्‍होंने लगभग 3 बार UPSC CSE देने के बाद आखिर में IAS की परीक्षा पास की। इस समय वह IRS अधिकारी के रूप सेवा कर रही है।

Advertisements

कोमल ने शादी कर ली और आज उनकी एक हैप्पी मैरिड लाइफ है। वो एक बच्ची की मां भी हैं। कोमल की कहानी से सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी कर रही छात्राओं को सीख लेनी चाहिए। अपने पैरों पर खड़ा होना कितना जरूरी है, महिलाओं को कमतर आंकने वाले समाज के लिए कोमल एक आईना हैं।

Advertisements

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.