टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 200 विकेट लेने वाले दुनिया के टॉप-5 गेंदबाज

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच की पहली पारी में टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने अपने टेस्ट करियर में 200 विकेट पूरा किया है। शमी के अलावे भी दुनिया के बहुत सारे गेंदबाजों ने यह मुकाम हासिल किया है, लेकिन उनमे से बहुत कम ऐसे खिलाड़ी है जिन्होंने कम मैच खेलकर यह कारनामा किया है। इसी वजह से हमने आगे इस लेख में दुनिया के उन 5 गेंदबाजों के बारे में बताया है जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 200 विकेट पूरा किया है।

1. यासिर शाह

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के स्पिन गेंदबाज यासिर शाह टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 200 विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं। यासिर ने मात्र 33 टेस्ट मैच खेलकर 200 विकेट हासिल किया था, यह रिकॉर्ड उन्होंने 3 दिसंबर 2018 को न्यूजीलैंड के खिलाफ एक टेस्ट मैच में बनाया था।

2. क्लियरेन्स विक्टर ग्रिमेट

ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व महान स्पिन गेंदबाज क्लियरेन्स विक्टर ग्रिमेट के सामने दुनिया के बड़े-बड़े बल्लेबाज घुटने टेक देते थे। यही कारण है कि वो विश्व के उन गेंदबाजों की सूची में दूसरे स्थान पर है जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज 200 विकेट अर्जित किया है। यह कारनामा करने के लिए ग्रिमेट को 36 टेस्ट मैच खेलना पड़ा था।

3. रविचंद्रन अश्विन

भारतीय टीम के दिग्गज स्पिन गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन वर्तमान में टीम इंडिया के सबसे बेहतरीन गेंदबाज माने जाते हैं। क्योंकि उन्होंने अपने क्रिकेट करियर में शानदार गेंदबाजी की है जिस वजह से उनका नाम इस सूची में मौजूद है। अश्विन 37 टेस्ट मैच खेलते हुए 200 विकेट पूरा किया था, यह रिकॉर्ड उन्होंने न्यूजीलैंड के विरुद्ध खेलते हुए 22 सितम्बर 2016 को बनाया था।

4. डेनिस लिली

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज डेनिस लिली एक खतरनाक गेंदबाज थे, जिन्होंने दुनिया बड़े-बड़े बल्लेबाजों को पवेलियन का रास्ता दिखाया है। लिली ने टेस्ट क्रिकेट में 200 विकेट अर्जित करने के लिए 38 मैच खेले थे। इस आंकड़े को लिली ने 1 फरवरी 1980 को इंग्लैंड के खिलाफ पूरा किया था।

5. वकार युनुस

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व घातक तेज गेंदबाज वकार युनुस का नाम भी इस सूची में शामिल है, क्योंकि उन्होंने भी टेस्ट क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन किया है। वकार युनुस अपने क्रिकेट करियर में 200 विकेट पूरा करने के लिए 38 मैच खेले थे और यह आंकड़ा उन्होंने 8 दिसंबर 1995 को न्यूजीलैंड के विरुद्ध पूरा किया था।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *