मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में शानदार गेंदबाजी की थी, जिस वजह से उस मैच में मेबजान टीम दोनों पारियों में 200 रनों के अदंर सिमट गई थी। उस दौरान मोहम्मद शमी ने अपने टेस्ट करियर में 200 विकेट लेने का आंकड़ा भी छुआ था, जिस वजह से उनके नाम कई रिकॉर्ड भी दर्ज हो गए।

मोहम्मद शमी के उस कारनामे के बाद कई पूर्व दिग्गज क्रिकेटर उनकी तारीफ़ करते हुए दिखे। अब पूर्व भारतीय क्रिकेटर डब्ल्यू वी रमण ने भी मोहम्मद शमी के साथ-साथ जसप्रीत बुमराह की प्रशंसा की है, क्योंकि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में इन्ही दोनों गेंदबाजों की वजह से भारत को जीत मिली थी।

मोहम्मद शमी और बुमराह में बताया अंतर

एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू के दौरान मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह के बारे में डब्ल्यू वी रमण ने कहा कि इन दोनों तेज गेंदबाजों में बहुत ज्यादा अंतर है। क्योंकि बुमराह के कंधो और बाजुओं में ज्यादा ताकत है जिस वजह से वो तेज गेंदबाजी करते हैं। वहीं शमी एक पारंपरिक तेज गेंदबाज है जो एक अच्छे तेज गेंदबाज में होनी चाहिए वो सभी उनमे मौजूद है। इस वजह से एक कोच के तौर पर शमी मुझे अधिक पसंद है।

उस इंटरव्यू के दौरान रमण ने कहा कि एक तेज गेंदबाज के अंदर जो अच्छे गुण होने चाहिए वो सभी मुझे शमी के अंदर दिख रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि शमी गेंद को टप्पा खिलाने के बाद जिस तरह से उसे घुमाते है वो मुझे देखकर बहुत अच्छा लगता है। हमने बहुत सारे ऐसे गेंदबाजों को देखा है जो फॉलो थ्रू पूरा नहीं करते हैं, क्योंकि उनका ध्यान गेंद को स्विंग कराने पर होता है।

आपको बता दें कि जब मोहम्मद शमी बंगाल की टीम के लिए रणजी खेला करते थे उस समय रमण उनकी टीम का कोच हुआ करते थे। उस दिन को याद करते हुए रमण ने कहा कि हमने शमी को उस स्थिति में भी गेंदबाजी करते हुए देखा है जब उन्हें 102 डिग्री बुखार हुआ करता था। इसी से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि क्रिकेट के प्रति शमी का एटिट्यूड कितना ज्यादा बेहतर है और उसी वजह से आज इतना सफल भी है।

Leave a comment

Your email address will not be published.