रवि शास्त्री और विराट कोहली
ऐसी और जानकारी सबसे पहले पाने के लिए हमसे जुड़े
WhatsApp Group Join Now

भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेले गए तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में मेजबान टीम ने भारत को 2-1 से हरा दिया था। उसके बाद विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट की कप्तानी पद से अचानक इस्तीफ़ा दे दिया। जिस वजह से टीम इंडिया के चाहने वाले के साथ-साथ कोहली के फैंस भी बहुत दुखी हुए थे, क्योंकि विराट टीम इंडिया के सबसे सफल टेस्ट कप्तान है। इस वजह से किसी ने सोचा नहीं था कि वो इतनी जल्दी टेस्ट की कप्तानी छोड़ देंगे।

विराट की कप्तानी पर शास्त्री का बयान

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने विराट कोहली को लेकर अपनी प्रतिक्रया दी है और उस दौरान उन्होंने कहा कि विराट कोहली को अगले दो सालों तक टीम इंडिया का कप्तान होना चाहिए था। उसके बाद शास्त्री ने यह भी कहा कि हमें उनके फैसलों का सम्मान करना चाहिए। इसके बारे में इंडिया टुडे से बात करते समय रवि शास्त्री ने कहा कि क्या विराट कोहली टेस्ट क्रिकेट में टीम इंडिया की कप्तानी जारी रख सकते थे? मेरे हिसाब से अगले दो साल तक क्रिकेट के इस फॉर्मेट में उन्हें कप्तानी करनी चाहिए थी। क्योंकि भारतीय टीम अगले दो सालों में अपने घर पर टेस्ट क्रिकेट खेलेगी और उस दौरान वो टीमें आएगी जो आईसीसी रैंकिंग में नोवें और दसवें नंबर पर स्थित है। इस वजह से उस समय तक विराट अपनी कप्तानी में 50-60 जीत हासिल कर सकते थे और बहुत सारे लोग इस फैक्ट को पचा नहीं पाएंगे।

भारतीय टीम के पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने आगे कहा कि विराट टेस्ट क्रिकेट में अगले दो साल तक कप्तानी कर सकते थे, लेकिन हमें उनके फैसले का सम्मान करना चाहिए। दुनिया के किसी भी दूसरे देशों में इस तरह के आंकड़े अविश्वसनीय है। आपने ऑस्ट्रेलिया और इंलैंड जैसी टीमों से जीत हासिल किया, लेकिन साउथ अफ्रीका के विरुद्ध 1-2 से हार गए। लेकिन फिर भी यह बहस चल रही है कि उन्हें टेस्ट का कप्तान होना चाहए या नहीं।

आपको बता दें कि साल साल 2017 में रवि शास्त्री टीम इंडिया के हेड कोच नियुक्त किए गए थे, उसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और रवि शास्त्री के साथ जबरदस्त बॉन्डिंग देखने को मिली थी। यही कारण है कि विराट और कोहली ने मिलकर भारत को बहुत सारे मैच जीतवाया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *