|

चरवाहा बना टॉपर : भेड़ बकरियों को चराते हुए जंगल में की पढाई, 6 वां स्थान पाकर बना रीट का टॉपर, ias बनने का है सपना

Advertisements

अगर कुछ करने का जज्बा हो तो किसी भी परिस्तिथि में अपना मुकाम हासिल किया जा सकता है ऐसा ही कुछ कर दिखाया राजस्थान के पाली जिले के छोटे से गांव बोयल के रहने वाले प्रकाश देवासी  ने, पाली जिले के बोयल (सोजत) गांव के रहने वाले प्रकाश देवासी ने रीट लेवल-1 में प्रदेश में छठी रैंक हासिल की,

बोले विश्वास नही हुआ, दिवाली बोनस मिल गया 

Advertisements

रिपोर्ट के मुताबिक प्रकाश देवासी (Prakash Dewasi) ने रीट लेवल-1 में 146 अंक प्राप्त किये हैं. प्रकाश देवासी बताते हैं की मुझे अंदाजा भी नही था की मेरे इतने नंबर आ जायंगे लेकिन हां मुझे पता था की मैं पास जरूर कर जाऊंगा 6वां स्थान हासिल कर लेगा यह नही सोचा था। यह अंक उसे दीवाली के बोनस जैसा है।

Advertisements

भेड़ बकरी चराते हुए की पढाई :

प्बरकाश ताते हैं की है की घर में भेड़ बकरियां है ऐसे में  प्रकाश ही भेड़-बकरियों को चराने ले जाते हैं. इस दौरान वह अपनी किताबें भी जंगल में लेकर जाते थे और वहीं पढ़ाई करते थे. जंगल में वो 12 घंटे तक पढाई करते थे प्रकाश बताते हैं की जंगल की शांति में वह पढ़ाई और मन लगाकर करता था। इस पढ़ाई का अलग ही आंनद है।

Advertisements

IAS बनने का है सपना :

. तीन भाई बहनों में सबसे छोटे प्रकाश ने बताया कि उनका सपना IAS अधिकारी बनने का है. इसको लेकर वह आगे भी तैयारी करेंगे.रीट की परीक्षा में सफलता प्राप्त करने का पूरा श्रेय वह अपनी मां पप्पूदेवी को देता है। उसका कहना था कि पिता की बीमारी के चलते भेड़-बकरियों सहित अन्य सभी काम उसकी मां ही संभालती है

Advertisements

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.